डिफेन्स कंपनी Apollo Micro Systems Ltd ने दिया 1 महीने में 120% का धमाकेदार रिटर्न

डिफेन्स कम्पनी Apollo Micro Systems Ltd ने पिछले कुछ दिनों से धुवादार प्रदर्शन किया है शेयर की प्राइस लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं।  अभी की बात करते तो शेयर ने मात्र 1 महीने में 120% से ज्यादा का रिटर्न दिया है वही  6 महीने की बात करें तो शेयर ने लगभग 250% से अधिक का रिटर्न दिया है वही साल भर की बात करें तो लगभग 400% के ऊपर का रिटर्न दिया है और 2 साल की बात करें तो इस शेर ने धमाकेदार रिटर्न दिया है इसने अपने लो प्राइस से 1000% से ज्यादा का अब तक का रिटर्न दिया है। जाने Apollo Micro Systems Ltd के बारे में सबकुछ ।

Apollo Micro Systems Ltd share price 

अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड शेयर प्राइस –  हालांकि शुक्रवार के दिन अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड के शेयर में लगभग 5% की गिरावट देखी गई। सुबह अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड के शेयर 138.75 में ओपन हुए और दिन का 139.80 का High बनाया उसके बाद 131.75 का Low बनाकर 131.75 पर बंद हुए। पिछले तीन कामकाजी दिनों में शेयर में अपर और लोअर सर्किट बना हुआ है। इस टाइम Apollo Micro Systems Ltd का  शेयर 130-160 के बीच ट्रेड कर रहा है 

शेयर मार्केट में पैसे कैसे कमाएं? Share Market Se Paise Kaise Kamay? For Beginners

Apollo Micro Systems Ltd क्या करती है 

अपोलो माइक्रो सिस्टम एक डिफेंस और एयरोस्पेस इक्यूपमेंट मैन्युफैक्चरिंग कंपनी है। अपोलो माइक्रो सिस्टम रेलवे, आटोमोटिव, होमलैंड सिक्योरिटी आदि के लिए मार्केट के सोल्यूशन उपलब्ध कराती है कंपनी इसके अलावा डिफेंस के काफी सारे इक्विपमेंट जैसे मिसाइल लेवल टारपीडो और अंडरवाटर माइनस आदि की फैसेलिटीज उपलब्ध कराती है।

Apollo Micro Systems Ltd की नीव

अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड (Apollo Micro Systems Ltd) (2)
अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड (Apollo Micro Systems Ltd) (2)

अपोलो माइक्रो सिस्टम 3 मार्च 1947 को अपोलो मेट्रो सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड के नाम से लिस्ट हुई थी। बाद में इसे अपोलो माइक्रो सिस्टम में बदल दिया गया।

सन 1985 में करुणाकर रेडी के द्वारा अपोलो माइक्रो सिस्टम की नीव रखी गई थी पहले इसका काम था इसरो के लिए डिजाइन की सर्विसेज देना। बाद में धीरे-धीरे यह कंपनी में कन्वर्ट हुई और इसने डेवलपमेंट स्टेज से लेकर मैन्युफैक्चरिंग तक जितना भी काम होता है सब इंक्लूड कर लिया, जिसमें अंडरवाटर माइंस का भी कामकाज शामिल किया गया।

कैंडलस्टिक चार्ट पैटर्न पीडीऍफ़ हिंदी (Candle Stick Chart Pattern pdf) HIndi

Apollo Micro Systems Ltd का expension प्लान

क्योंकि अपोलो माइक्रो सिस्टम (Apollo Micro Systems Ltd) अपने कामकाज को कंटिन्यू बढ़ा रही है तो कंपनी फैसिलिटी को 55000 वर्ग फीट से अगले 12 महीने या कहें साल भर के बाद 3.3 लाख वर्ग मीटर तक फैलाना चाहती है।

Apollo Micro Systems Ltd. का काम काज

अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड (Apollo Micro Systems Ltd) (2)
अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड (Apollo Micro Systems Ltd) (2)

Apollo Micro Systems Ltd के पास पहले से ही काफी सारे सरकारी और गैर सरकारी प्रोजेक्ट है जिसमें डीआरडीओ से जुड़े काफी प्रोजेक्ट है, टेक्नोलॉजी ट्रांसफर एग्रीमेंट से रिलेटेड काफी प्रोजेक्ट है और भी काफी सारे प्रोजेक्ट इंक्लूड है। कंपनी के मैनेजमेंट का कहना है कि आने वाले समय में अपोलो माइक्रोसॉफ्ट सिस्टम के कामकाज में अच्छी ग्रोथ देखी जा सकती है।

अपोलो माइक्रो सिस्टम के कस्टमर की बात करें तो इसके जितने भी कस्टमर है वह काफी सरकारी और नॉन सरकारी दिग्गज कंपनियां है जिसे  एनटीपीसी,इसरो, एनएमडीसी, आरसीआई, टाटा स्टील, भेल, ओएनजीसी और भी काफी सरकारी और नॉन सरकारी विभाग है जोकि अपोलो माइक्रो सिस्टम के कस्टमर है।

अपोलो माइक्रो सिस्टम का नया मैन्युफैक्चरिंग प्लांट

अपोलो अपोलो माइक्रो सिस्टम पहले से ही इलेक्ट्रॉनिक मैन्युफैक्चरिंग, हार्डवेयर डिजाइनिंग, प्लेटफार्म इंटीग्रेशन, विपिन इंटीग्रेशन के बिजनेस में पहले से ही काम कर रही है अब उसने एक डिफेंस का अलग प्लांट डालने की घोषणा की है जो की हैदराबाद में होगा Apollo Micro Systems Ltd ने इस नए प्लांट 150 करोड रुपए का इन्वेस्टमेंट करेगी और अपोलो माइक्रो सिस्टम इस प्लांट को नए महीने में पूरा करना चाहती है।

अपोलो माइक्रो सिस्टम की सहायक डिफेंस कंपनी

Apollo Micro Systems Ltd ने डिफेंस के बिजनेस को हैंडल करने के लिए एक नई कंपनी बनाई है जिसका नाम रखा है अपोलो डिफेंस इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड जो कि केवल डिफेंस  के सेगमेंट में और एयरोस्पेस से रिलेटेड इलेक्ट्रॉनिक कंपोनेंट के सेगमेंट में डील करती है।

Apollo Micro Systems Ltd ओवर व्यू

कंपनी के टेक्निकल्स इस समय ठीक-ठाक है अभी हम देखते हैं कि फंडामेंटल से कैसे तरह के हैं हम फंडामेंटल की आगे बात करेंगे। अपोलो माइक्रोसॉफ्ट लिमिटेड की मार्केट कैपिटल 3763.84 करोड़ है जो की एक स्मॉल कैप कंपनी है जिसका फेस वैल्यू वन है।

कंपनी का नेट सेल्स अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड की नेट सेल्स

Apollo Micro Systems Ltd
Apollo Micro Systems Ltd

अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड ने पिछले क्वार्टर यानी की जून में 5.69 का रेवेन्यू जेनरेट किया था जबकि मार्च 2023 में इसने 106.85 का रेवेन्यू जेनरेट किया था, अब सितंबर की बात करें तो सितंबर क्वार्टर में माइक्रो सिस्टम लिमिटेड ने 87.16 करोड़ का कारोबार किया। मैं Apollo Micro Systems Ltd ने क्वार्टर तो क्वार्टर बेसिस और ईयर टू एयर बेसिस में ग्रोथ हासिल की है।

अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड का एबिटडा

पिछले साल सितंबर 2022 में अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड का EBITDA 9.89 करोड़ था जबकि पिछले क्वार्टर जून 2023 में एबिटडा 12.74 करोड़ था और आपकी सितंबर 2023 में यह बढ़कर 18.37 करोड़ हो गया है।

अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड का प्रॉफिट बिफोर टैक्स

कंपनी ने पिछले साल सितंबर 2022 में 3.56 करोड़ का प्रॉफिट जनरेट किया था और पिछले क्वार्टर की बात करें तो पिछले क्वार्टर जून 2023 में कंपनी ने 2.83 करोड़ का प्रॉफिट जनरेट किया हुआ है और सितंबर की बात करें तो सितंबर 2023 में 8.72 करोड़ का प्रॉफिट जनरेट किया हुआ है।

अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड प्रॉफिट आफ्टर टैक्स

अब अपोलो माइक्रो सिस्टम की नेट प्रॉफिट की बात करें तो पिछले सितंबर 2022 में कंपनी ने 1.64 करोड़ का नेट प्रॉफिट जनरेट किया था जबकि पिछले क्वार्टर जून 2023 में कंपनी ने 1.65 करोड़ का नेट प्रॉफिट जनरेट किया हुआ है अब आपकी सितंबर की बात करें तो सितंबर 2023 में कंपनी ने 6.56 करोड़ का क्वार्टर वाइस रेवेन्यू जेनरेट किया हुआ है।

अपोलो माइक्रो सिस्टम का ईयर ऑन एयर बेसिस में रिव्यू

साल दर साल की बात करें तो कंपनी ने मार्च 2020 में 246 करोड़ की सेल जेनरेट किया था उसके बाद मार्च 2021 में 203 करोड़ का नेट सेल किया हुआ है फिर मार्च 2022 में 243 करोड़ का और 21 सितंबर तक 334 करोड़ का नेट सेल्स क्या हुआ है।

अपोलो माइक्रो सिस्टम का एयर ऑन एयर बेस में प्रॉफिट रिव्यू

कंपनी ने मार्च 2020 में 14 करोड़ का नेट प्रॉफिट जनरेट किया था, उसके बाद मार्च 2021 में 10 करोड़ का नेट प्रॉफिट जनरेट किया था, उसके बाद मार्च 2022 में 15 करोड़ का और मार्च 2023 में 19 करोड़ का  नेट प्रॉफिट बनाया हुआ है।

अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड का शेयर होल्डिंग पेटर्न

कंपनी के प्रमोटर्स ने कंपनी से शेयर होल्डिंग पहले से काफी काम की है जहां सितंबर 2022 में प्रमोटर्स के पास शेयर होल्डिंग 59.10% थी वही सितंबर 2023 में या घटकर 52.76% रह गई है। वहीं पब्लिक की बात करें तो पब्लिक के पास शेयर होल्डिंग 40.90% थी सितंबर 2022 में और अब सितंबर 2023 में पब्लिक के पास शेयर होल्डिंग 47.33% है जिसमें FII के पास 5.2% की शेयर होल्डिंग है DII के पास 3.31% के शेयर होल्डिंग है और नॉन इंस्टीट्यूशन के पास 38.75% की शेयर होल्डिंग है।

निष्कर्ष (Conclusion)

अपोलो माइक्रो सिस्टम लिमिटेड के फंडामेंटल और टेक्निकल दोनों देख चुके हैं टेक्निकल थोड़ा ठीक-ठाक है फंडामेंटल भी थोड़े इंक्रीज हो रहे हैं कंपनी का जो Aim काफी बड़ा है उसके बाद भी मेरी सलाह यह है कि आप कोई भी शेयर में पैसा लगाने से पहले कंपनी के बारे में खुद एक बार अच्छे से रिसर्च करें उसके बाद ही अपना पैसा लगाए।

Short Post

मेरा नाम M R है और मैं एक शेयर मार्किट एनालिस्ट और ब्लॉगर हूँ. मुझे शेयर बाज़ार के बारे में जानकारी रखना और बताना अच्छा लगता है. मुझे लगभग 7 साल का अकाउंट्स का अनुभव है और लगभग 4 साल से शेयर बाज़ार में एक्टिव हूँ. मैं एक वेबसाइट में लगातार शेयर मार्किट की खबरें, टिप्स, ट्रेंड्स और विश्लेषण अपडेट करता हूँ. मेरा उद्देश्य है कि मैं शेयर मार्किट के बारे में ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक और शिक्षित करूँ. मेरा ब्लॉग मेरा प्रयास है कि मैं शेयर मार्किट के बारे में अपने विचार, अनुभव और ज्ञान को आपके साथ साझा करूँ. आप मुझे अपने सुझाव, प्रश्न और टिप्पणियाँ भेज सकते हैं. मुझे आपसे सुनने का इंतजार रहेगा

Sharing Is Caring:

Leave a comment

दो गुना लिस्ट होगा ये आईपीओ, अभी है खरीदने का मौका मात्र 70 रुपए के माल्टीबैगर पेनी शेयर ने दिया 800% ताबड़तोड़ रिटर्न, इलेक्ट्रिक स्कूटी बनाती है कंपनी, निवेशक हुए मलाल इस डिफेंस स्टॉक में FIIs बढ़ा रहे अपनी शेयर होल्डिंग, क्या होने वाला है इसमें बढ़ा खेल? 6 महीने में पैसा डबल अब होंगे 10 शेयर से 100 शेयर, जल्दी उठाए फायदा रईसों के होटल वाली कंपनी, जूनिपर होटल्स ले कर आ रही आइपीओ, कितना बनेगा प्रॉफिट या होगा नुकसान?